सावन में महाकाल की पहली सवारी कल,नियमों का उल्लंघन करने पर होगी कार्रवाई

सावन के पहले सोमवार को भगवान महाकाल की सवारी निकाली जाती है।इसी क्रम में इस वर्ष की पहली सवारी कल है।कलेक्टर ने कहा है कि नियमों का उल्लंघन करने पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

सावन-भादौ मास में निकलने वाली भगवान महाकाल की सवारी पिछले दो वर्षों से कोरोना के कारण बदले हुए मार्ग से सवारी निकाली जा रही थी, लेकिन इस वर्ष परंपरागत मार्ग से सवारी निकाले जाने की चर्चा है। चांदी की पालकी में विराजमान होकर भगवान महाकाल भक्तों को दर्शन देने नगर भ्रमण पर निकलेंगे।

कलेक्टर आशीष सिंह ने जारी की गाइडलाइन

सावन में भगवान महाकाल की सवारी निकलने वाली है. इसे लेकर गाइडलाइन जारी कर दी गई है।

कलेक्टर ने कहा है कि महाकाल की सवारी में डीजे का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा. उन्होंने श्रद्धालुओं से आह्वान किया कि वे सवारी के आगे-आगे केले, नारियल, चॉकलेट और अन्य खाद्य सामग्री का वितरण न करें. महाकाल की सवारी के लिए दो साल के अंतराल के बाद फिर से रस्सा पार्टी को तैनात किया जा रहा है. कलेक्टर ने स्पष्ट रूप से कहा कि यदि कोई नियमों का उल्लंघन और व्यवस्था बिगाड़ने की कोशिश करेगा तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

मंदिर प्रशासक गणेश कुमार धाकड़ ने बताया चाक-चौबंद व्यवस्था की जा रही है।बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए महाकालेश्वर मन्दिर पहुंचने के लिए शहर में व्यवस्थित संकेतक लगा दिए गए हैं. कलेक्टर ने शीघ्र दर्शन की लाइन के लिए अलग से व्यवस्था करने का निर्देश दिया है. यह भी निर्णय 

5 स्थानों पर रहेगी पार्किंग

– कार्तिक मेला ग्राउंड पार्किंग

– कर्कराज मंदिर

– पुल के समीप हॉट बाजार

– भील समाज धर्मशाला के पास

– त्रिवेणी संग्रहालय के समीप

कब-कब निकलेंगी सवारियां

पहली सवारी 18 जुलाई, दूसरी 25 जुलाई, तीसरी 1 अगस्त, चौथी 8 अगस्त, पांचवी 15 अगस्त, छठी व अंतिम शाही सवारी 22 अगस्त को निकाली जाएगी।

महाकाल मंदिर समिति ने श्रवण मास में आने वाली श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए सुरक्षा गार्डों की संख्या बढ़ाने पर विचार किया है

सुरक्षा के लिए यह बहुत जरूरी है क्योंकि हर साल श्रवण मास में महाकाल मंदिर में करोड़ों दर्शनार्थी आते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *