कांवड़ यात्रा के चलते टोंक जिले के कई क्षेत्रों में दो दिन के लिए इंटरनेट सुविधा बंद

राजस्थान के टोंक जिले में सोमवार को निकलने वाली कांवड़ यात्रा को लेकर जिला प्रशसान ने 2 दिन तक टोंक में इंटरनेट बंद करने का फैसला किया है जिसके आदेश जारी हो गए हैं. प्रशासन के मुताबिक कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए नेटबंदी की गई है।

टोंक जिले में रविवार एवं सोमवार को आने वाली कावड़ यात्रा के दौरान पुलिस को सूचना मिली थी कुछ लोग उपद्रव कर सकते हैं। ऐसे में गलत सूचनाओं को रोकने के लिए सरकार के द्वारा इंटरनेट की सुविधा बंद कर दी गई है।

प्रशासन ने शनिवार देर रात आदेश जारी कर कहा कि मालपुरा और टोडा क्षेत्र में 48 घंटों के लिए इंटरनेट बंद रहेगा। वहीं कांवड़ यात्रा के लिए पुराने मार्ग की जगह दूसरे मार्ग की व्यवस्था भी की गई है।

राजस्थान में इंटरनेट बंद करना अब मजाक बन गया है। सरकार ने बात-बात पर इंटरनेट बंद करना शुरू कर दिया है। इंटरनेट बंद होने के कारण आम लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

हालांकि, शिव कांवड़यात्रा समिति ने दूसरे मार्ग से कांवड़यात्रा को निकालने की बात मानने से इंकार कर दिया है और कहा है कि परम्परागत मार्ग से कांवड़ यात्रा ना निकाले जाने देने को लेकर हम विरोध स्वरूप अपने कांवड़ यात्रा को निरस्त कर रहे हैं। जबकि प्रशासन ने कहा है कि जिले के बाकी परंपरागत मार्ग कांवड़ यात्रा के लिए खुले रहेंगे।

टोंक जिले के लगभग सभी शिव मंदिरों में पुलिस बंदोबस्त किया गया है। ताकि किसी तरह की परेशानी से निपटा जा सके। उधर जयपुर पुलिस पहले ही कावड़ में आने जाने वाले हर कावड़िए का रजिस्ट्रेशन कर रही है। टोंक जिले में भी अब यह व्यवस्था लागू की जा रही है।

प्रशासन का कहना है कि वह सारे कदम इसलिए उठा रहा है क्योंकि वह नहीं चाहता कि पिछली बार की तरह इस बार भी माहौल खराब हो। दरअसल पिछली बार मालपुरा और टोडा में एक समुदाय विशेष और कांवड़ यात्रियों के बीच कांवड़ यात्रा को लेकर विवाद हो गया था। इसी को देखते हुए प्रशासन ने इन इलाकों में 48 घंटे नेट बंद रखने की बात कही है ताकि स्थिति पहले की तरह खराब ना हो और अफवाहें ना फैलें।

शहर में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए मालपुरा और टोडारायसिंह स्टेट हाइवे से आने वाली कावड़ यात्रा के मार्ग को रेलवे फाटक के पास से बदलकर बायपास रोड का निर्माण कराकर यात्रा निकलवाने की तैयारियां पूरी कर ली गई है।

टोंक एसडीएम ने कांवड़यात्रा को लेकर कहा है कि कांवड़यात्रा की सुरक्षा को लेकर कई तरह के इंतजाम किए गए हैं। यात्रा के लिए नई सड़कें बनाई गई हैं। टोडारोड, केकडी और अजमेर रोड पर बैरिकेड्स लगाकर जाम से निजात पाने की कोशिश की गई है। जहां-जहां भी हमें संवेदनशील स्थिति नजर आ रही है, वहां-वहां हम पुलिस चौकियां बना रहे हैं। ताकि यात्रा के दौरान सुरक्षा और शांति बरकरार रहे।

इस बार कांवड़ यात्रा के दौरान संवेदनशील इलाकों में ड्रोन कैमरे से विशेष निगरानी रखी जा रही है. वहीं जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के अभय कमांड सेंटर से ड्रोन कैमरों और सीसीटीवी की मदद से नजर रखी जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.