Sri Lanka News:विरोध प्रदर्शन के बीच आंसू गैस के 50 कनस्तर के साथ एक व्यक्ति गिरफ्तार

श्रीलंका में आर्थिक संकट गहराता जा रहा है. बुनियादी जरूरतों के लिए भी लोग बेबस हैं. प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतरे हुए हैं.

श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस के पास आंसू गैस के गोलों के साथ-साथ पानी भी लगभग नहीं बचा है।

इस बीच पुलिस ने 31 साल के संदिग्ध को गिरफ्तार किया है, जिस पर प्रदर्शन के दौरान पुलिस के 50 आंसू गैस के कनस्तर चुराने का आरोप है. स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस शख्स ने 13 जुलाई को उस वक्त कनस्तर चुरा लिए, जब पुलिस और आर्मी संसद की ओर बढ़ रहे प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने में जुटे थे. 

द आइलैंड अखबार ने सोमवार को अपनी रिपोर्ट में बताया कि बाहरी पुलिस स्टेशनों से आंसू गैस के कनस्तरों को कोलंबो ले जाया गया है, क्योंकि पुलिस ने कोलंबो और उपनगरों में हालिया विरोध प्रदर्शनों के दौरान बड़ी मात्रा में आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल किया था। अखबार ने एक अधिकारी के हवाले से अपनी रिपोर्ट में बताया कि कोलंबो के थानों में सीमित मात्रा में आंसू गैस के गोले छोड़े बचे हैं।

अखबार ने एक अधिकारी के हवाले से अपनी रिपोर्ट में बताया कि कोलंबो के थानों में सीमित मात्रा में आंसू गैस के गोले बचे हैं। उन्होंने कहा,“हमें कोलंबो के अन्य हिस्सों के थानों से अपने स्टॉक कोलंबो भेजने के लिए कहना पड़ा है। ” उन्होंने कहा कि पुलिस ने हाल के हफ्तों में प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए भारी मात्रा में पानी का इस्तेमाल किया था और पुलिस ने अभी तक राष्ट्रीय जल आपूर्ति और जल निकासी बोर्ड को भुगतान नहीं किया है।

प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने पुलिस के एक तिपहिया वाहन पर हमला किया जो पोल्डुवा जंक्शन विरोध स्थल पर आंसू गैस के कनस्तरों को ले जा रहा था। डेली मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक, घटना के बाद वेलिकडा पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। 

श्रीलंका में इमरजेंसी 

श्रीलंका के कार्यकारी राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे ने एक गजट नोटिफिकेशन जारी किया है, जिसमें कहा गया कि श्रीलंका में सार्वजनिक सुरक्षा, सार्वजनिक व्यवस्था की सुरक्षा और समुदाय के जीवन के लिए जरूरी आपूर्ति और सेवाओं के रखरखाव के हित में आपातकाल घोषित किया गया है.

20 जुलाई को होगा श्रीलंका के नए राष्ट्रपति का चुनाव

पूर्व राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे ने देश छोड़कर सिंगापुर भाग जाने के बाद इस्तीफे की पेशकश की थी। हजारों प्रदर्शनकारियों द्वारा राजधानी कोलंबो में उनके आधिकारिक आवास पर धावा बोलने के बाद राष्ट्रपति सबसे पहले मालदीव के लिए रवाना हुए। श्रीलंकाई संसद ने घोषणा की कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन मंगलवार को होंगे और श्रीलंका के नए राष्ट्रपति का चुनाव 20 जुलाई को होगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.