Vaishno Devi: 55 लाख से अधिक श्रद्धालु कर चुके हैं माता वैष्णो देवी के दर्शन,इस वर्ष एक करोड़ को छू सकता है आंकड़ा

माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए इस वर्ष के पहले 7 महीनो में कुल 5503995 श्रद्धालु अब तक मां वैष्णो देवी के चरणों में हाजिरी लगा चुके हैं और वर्तमान में 25000 से 30,000 श्रद्धालु रोजाना मां वैष्णो देवी के दर्शनों के लिए रोजाना आधार शिविर कटड़ा में पहुंच रहे हैं। तमाम आंकड़ों को देखते हुए यह अनुमान लगाया जा रहा है कि इस वर्ष वैष्णो देवी आने वाले श्रद्धालुओं का आंकड़ा एक करोड़ को छू सकता है।

बीते वर्ष इसी अवधि का आंकड़ा 23 लाख 88 हजार 859 था। जिसकी मुख्य वजह कोरोना महामारी की दूसरी लहर थी। जिसने मां वैष्णो देवी की यात्रा को प्रभावित किया था।

इस वर्ष श्रद्धालु पूरे जोश के साथ श्रद्धालु निरंतर मां वैष्णो देवी की यात्रा जारी रखे हुए हैं। विपरीत मौसम के बावजूद श्रद्धालु अपने परिजनों के साथ जयकारे लगाते हुए निरंतर मां वैष्णो देवी भवन की ओर प्रस्थान कर रहे हैं।

हालांकि कोरोना महामारी वर्तमान में भी जारी है क्योंकि एक बार फिर देश के विभिन्न राज्यों में कोरोना महामारी के मामले बढ़ना शुरू हो गए हैं। जिसको लेकर मां वैष्णो देवी की यात्रा करने वाले श्रद्धालु पूरी तरह से सतर्क हैं।

वर्तमान में जारी बरसात को लेकर मां वैष्णो देवी की यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं को कभी रिमझिम बारिश कभी तीखी गर्मी तो कभी घनी धुंध आदि का सामना लगातार करना पड़ रहा है।

वही त्रिकुटा पहाड़ियों पर बादल व धुंध के कारण हेलिकॉप्टर सेवा प्रभावित रही।दो दिनों में हो रही तेज बारिश के बाद सोमवार को मौसम सुखद रहा। इसलिए, माता वैष्णो देवी के दर्शन करने आने वाले यात्रियों के लिए हिमकोटि मार्ग पर बैटरी कार सेवा और माता के भवन से भैरव घाटी के लिए रोपवे सेवा बहाल रही।

इन तमाम दुश्वारियां के बावजूद श्रद्धालु पूरे जोश के साथ मां वैष्णो देवी के जयकारे लगाते हुए लगातार अपनी मां वैष्णो देवी की यात्रा कर रहे हैं। और मां वैष्णो देवी के चरणों में हाजिरी लगाकर परिवार की सुख शांति की कामना निरंतर श्रद्धालु कर रहे हैं।

पंजीकरण कक्ष से मिली जानकारी के अनुसार रविवार को 27110 भक्तों ने प्राकृतिक पिंडियों के समक्ष नमन किया। वहीं, सोमवार को शाम सात बजे तक 18 हजार से अधिक भक्त अपना पंजीकरण करवाकर भवन की ओर प्रस्थान कर चुके थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.